Head

Zaroorat Lyrics | Lyrics Of Zaroorat Ek Villain | Siddharth Malhotra | Shraddha Kapoor | Zaroorat Lyrics Ek Villain |

Zaroorat Lyrics

Zaroorat lyrics song is taken from Ek villain movie. Mustafa Zahid beautifully sing this song and, the lyrics of this song is given by Mithoon, and the music of this song is also conducted by Mithoon. This movies is released in the year 2014. The main featuring character of this movie is Siddharth Malhotra and Shradha Kapoor.

Zaroorat Lyrics | Lyrics Of Zaroorat Ek Villain | Siddharth Malhotra | Shraddha Kapoor | Zaroorat lyrics Ek Villain |

Song :  Zaroorat
Movie  :  Ek Villain
Singer  :  Mustafa Zahid
Lyrics  :  Mithoon
Music  :  Mithoon
Year  :  2014


Zaroorat Hai Lyrics Language



Lyrics Of Zaroorat in English


Ye Dil Tanha Kyun Rahe
Kyun Hum Tukdon Mein Jiye
Ye Dil Tanha Kyun Rahe
Kyun Hum Tukdon Mein Jiyein
Kyun Rooh Meri Ye Sahe
Main Adhoora Jee Raha Hoon
Hardum Ye Keh Raha Hoon

Mujhe Teri Jarurat Hai
Mujhe Teri Zaroorat Hai
Mujhe Teri Zaroorat Hai

Ye Dil Tanha Kyun Rahe
Kyun Hum Tukdon Mein Jiye
Ye Dil Tanha Kyun Rahe
Kyun Hum Tukdon Mein Jiyein
Kyun Rooh Meri Ye Sahe
Main Adhoora Jee Raha Hoon
Hardum Ye Keh Raha Hoon

Mujhe Teri Zaroorat Hai
Mujhe Teri Zaroorat Hai

Andheron Se Tha Mera Rishta Bada
Tune Hi Ujaalon Se Waaqif Kiya
Ab Lauta Main Hoon Inn Andheron Mein Phir
Toh Paaya Hai Khud Ko Begaana Yahaan
Tanhaayi Bhi Mujhse Khafaa Ho Gayi
Banjaron Ne Bhi Thukra Diya
Main Adhoora Jee Raha Hoon
Khud Par Hi Ik Sazaa Hoon

Mujhe Teri Zaroorat Hai
Mujhe Teri Zaroorat Hai

Hmm..Tere Jism Ki Woh Khushbuein
Ab Bhi Inn Saanson Mein Zinda Hai
Mujhe Ho Rahi Inse Ghutan
Mere Gale Ka Ye Phanda Hai
Aaa..
Ho..Tere Choodiyon Ki Woh Khanak
Yaadon Ke Kamre Mein Goonje Hai
Sunkar Ise Aata Hai Yaad
Haathon Mein Mere Zanjeerein Hain
Tuhi Aake Inko Nikaal Zaraa
Kar Mujhe Yahaan Se Riha
Main Adhoora Jee Raha Hoon
Ye Sadaayein De Rahaa Hoon

Mujhe Teri Zaroorat Hai
Mujhe Teri Zaroorat Hai.


More



Zaroorat Lyrics in Hindi


ये दिल तन्हा क्यों रहे
क्यों हम टुकड़ों में जियें...
ये दिल तन्हा क्यों रहे
क्यों हम टुकड़ों में जियें... 
क्यों रूह मेरी ये सहे, मैं अधूरा जी रहा हूँ
हर दम ये कह रहा हूँ

मुझे तेरी ज़रुरत है
मुझे तेरी ज़रुरत है
मुझे तेरी ज़रुरत है

ये दिल तन्हा क्यों रहे
क्यों हम टुकड़ों में जियें...
ये दिल तन्हा क्यों रहे
क्यों हम टुकड़ों में जियें...
क्यों रूह मेरी ये सहे, मैं अधूरा जी रहा हूँ
हर दम ये कह रहा हूँ

मुझे तेरी ज़रुरत है
मुझे तेरी ज़रुरत है

अंधेरों से था मेरा रिश्ता बड़ा
तूने ही उजालों से वाक़िफ़ किया
अब लौटा मैं हूँ इन अंधेरों में फिर
तो पाया है ख़ुद को बेगाना यहां
तन्हाई भी मुझसे ख़फ़ा हो गयी
बंजारों ने भी ठुकरा दिया
मैं अधूरा जी रहा हूँ, ख़ुद पर ही इक सज़ा हूँ

मुझे तेरी ज़रुरत है, 
मुझे तेरी ज़रुरत है

हम्म तेरे जिस्म की, वो खुशबुएँ
अब भी इन साँसों में ज़िंदा हैं
मुझे हो रही इनसे घुटन
मेरे गले का ये फन्दा है
हो तेरे चूड़ियों की वो खनक
यदों के कमरे में गूंजे हैं
सुनकर इसे आता है याद
हाथों में मेरे ज़ंजीरें हैं

तुही आके इनको निकाल ज़रा
कर मुझे यहां से रिहा
मैं अधूरा जी रहा हूँ, येै सदायै दे रहा हुँ

मुझे तेरी ज़रुरत है
मुझे तेरी ज़रुरत है
मुझे तेरी ज़रुरत है .