Subscribe Us

Header Ads

bekhayali song lyrics in english

Bekhayali song lyrics

Bekhayali song lyrics
Song - Bekhayali
Singer - Arijit Singh, Sachet Tondan
Movie - Kabir Singh
Music - Irshad Kamli


Bekhayali song lyrics language


  • English
  • Hindi

Bekhayali song lyrics in english

     
Bekhayali me bhi tera hi khayal aaye
Kyun bichadna hai zaroori
Ye sawal aaye
Teri nazdikiyon ki khushi be hisaab thi 
Hisse me faasle bhi tere bemisaal aaye
Main jo tumse door hoon
Kyun door main rahoon 
Tera guroor hoon
Aa tu faasle mita 
Tu khwaab sa mila
Kyun khwaab tod doon 
Ooo.... Ooo.... Ooo....

Bekhayali me bhi tera hi khayal aaye 
Kyun judaai de gaya tu
Ye sawaal aaye
Thoda sa mein khafa ho gaya 
Apne aap se 
Thoda sa tujh pe bhi bewajah 
Hi malaal aaye
Hai ye tadpan, hai ye ulajhan
Kaise ji loon bina tere 
Meri ab sab se anban
Ban te kyun ye khuda mere
Hmm...Hmm...Hmm...Hmm...
Ye jo log bagh he 
Jungle ki aag he
Kyun aag me jalun 
Ye nakaam pyar me
Khush he ye harr me
In jaisa kyun banoo
Ooo.... Ooo.... Ooo.... 

Raatein dengi bata 
Neendon me teri hi baat he
Bhoolun kaise tujhe 
Tu to khayalo me sath he
Bkhayali me bhi tera hi khayal aaye
Kyun bichadna he zaroori 
Ye sawal aaye
Ooo.... Ooo.... Ooo....


Nazron ke aage har ek manzar
Ret ki tarah bikhar raha he

Dard tumhara badan mein mere 
Zeher ki tarah utar raha he 
Nazar ke aage har ek manzar 
Ret ki tarah bikhar raha he
Dard tumhara baadan me mere
Zeher ki tarah utar raha he
                                                         Aazamane aazmale ruth ta nahi
                                                          Faaslon se hausla ye toot ta nahi
                                                             Naa hai vo bewafa aur na 
                                                                Main hoon bewafa
                                                         Wo meri aadaton ki tarah
                                                                  Chutata nahi 


bekhayali song lyrics in hindi


हम्म .... हम्म .... हम्म ....    
बेखयाली में भी तेरा ही खयाल आये  
क्यों बिछड़ना हे ज़रूरी 
ये सवाल आये 
तेरी नज़दीकियों की ख़ुशी 
बे हिसाब थी 
हिस्से में फासले भी 
तेरे बेमिसाल आये 

में जो तुमसे दुर हूँ 
क्यों दूर में रहूँ तेरा गुरूर हूँ   
आ तू फासले मिटा 
तू ख्वाब सा मिला क्यूँ ख्वाब तोड़ दूँ 
ओ .......

बेखयाली में भी तेरा ही खयाल आये 
क्यूँ जुदाई दे गया तू 
ये सवाल आये 

थोड़ा सा में खफा हो 
गया अपने आप से   
थोड़ा सा तुझपे भी 
बेवजाह ही मालाल आये 
है ये तड़पन है ये उलझन 
कैसे जी लूँ बिना तेरे 
मेरी अब सब से हे अनबन 
बनते क्यूँ ये खुदा मेरे 
हम्म .... हम्म .... हम्म ....    
ये जो लोग बाग हे 
जंगल की आग है 
क्यूँ आग में जलूं 
ये नाकाम प्यार में 
खुश हे ये हार में 
इन जैसा क्यों बनु 
ओ ......    

रातें देंगी बता 
नींदों में तेरी ही बात है 
भूलूँ कैसे तुझे 
तू तो खयालो में साथ है 

बेखयाली में भी 
तेरा ही खयाल आये 
क्यूँ बिछड़ना है जरुरी 
ये सवाल आये 
ओ ......

नज़र के आगे हर एक मंज़र 
रेत की तरह  बिखर रहा हैं 
दर्द तुम्हारा बदन में मेरे 
जहर की तरह उतर रहा है 

नज़र के आगे हर एक मंज़र 
रेत की तरह बिखर रहा है 
दर्द तुम्हारा बदन में मेरे 
जहर की तरह उतर रहा है 

आ ज़माने आजमा ले रूठता नहीं 
फासलो से हौसला ये टूटता नहीं 
ना हे वो बेवफा और ना में हु बेवफा 
वो मेरी आदतों की तरह छूटता नहीं